मुख्‍य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद का दावा, MS धोनी पर कप्‍तानी छोड़ने के लिए दबाव नहीं था..

महेंद्र सिंह धोनी पर वनडे-टी 20 की कप्‍तानी छोड़ने के लिए दबाव होने संबंधी मीडिया में आई खबरों का मुख्‍य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद ने खंडन किया है. प्रसाद ने जोर देकर कहा है कि कप्‍तानी छोड़ने के लिए धोनी पर किसी तरह का दबाव नहीं था और यह फैसला उनका (धोनी का) खुद का था. गौरतलब है कि मीडिया में आई खबरों में दावा किया गया था कि धोनी पर सिलेक्‍टर्स की ओर से वनडे और टी20 की कप्‍तानी छोड़ने के लिए दबाव डाला गया था.मुख्‍य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद का दावा, MS धोनी पर कप्‍तानी छोड़ने के लिए दबाव नहीं था..

समाचार एजेंसी ANI ने प्रसाद के हवाले से कहा, ‘मैं केवल यह कहना चाहता हूं कि इस बारे में आ रहीं सभी रिपोर्ट्स झूठी हैं. कप्‍तानी छोड़ने का फैसला पूरी तरह धोनी का स्‍वयं का था.’ गौरतलब है कि बुधवार को वनडे और टी20 की कप्‍तानी छोड़ने के एमएस धोनी के फैसले ने देशभर के क्रिकेटप्रेमियों को चौंका दिया था. हालांकि धोनी ने इस फैसले के साथ ही साफ किया था कि वे खिलाड़ी के तौर पर शॉर्टर फॉर्मेट में टीम के लिए उपलब्‍ध रहेंगे.
सोमवार को देश के एक प्रमुख अंग्रेजी अखबार में प्रकाशित खबर में कहा गया था कि धोनी को राष्‍ट्रीय चयनकर्ताओं की ओर से कप्‍तानी छोड़ने के लिए कहा गया था. रिपोर्ट के अनुसार, चयन समिति के प्रमुख एमएसके प्रसाद ने झारखंड और गुजरात के बीच पिछले सप्‍ताह नागपुर में हुए सेमीफाइनल मैच के दौरान धोनी से मुलाकात की थी. इस रिपोर्ट में कहा गया था कि टेस्‍ट टीम के कप्‍तान विराट कोहली को सीमित ओवरों के क्रिकेट की भी कप्‍तानी सौंपे जाने की तैयारी पिछले साल सितंबर में ही कर ली गई थी. इसके अनुसार, यह मसला पिछले सप्‍ताह भी धोनी के साथ मुलाकात के दौरान प्रसाद की ओर से उठाया गया था जिसके बाद धोनी ने शॉर्टर फॉर्मेट की कप्‍तानी भी छोड़ने का निर्णय ले लिया.

Comments

comments

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *